INTER-ORGANISATION COMMUNICATION (संपर्क)

वनवासी कल्याण संपर्क आश्रम का कार्य 1952 में प्रारम्भ हुआ। समय के साथ उसका क्रमिक विकास हुआ। कार्य की आवश्यकतानुसार नये नये आयाम जुड़ते गए। जैसे जनजाति क्षेत्र में हम काम कर रहे है वैसे कई व्यक्ति एवं संगठन भी जनजाति बन्धुओं के बीच अपनी क्षमतानुसार विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत है। इनमें कुछ सकारात्मकता के साथ कार्य कर रहे है तो कुछ भ्रातियाँ फैलाने से लेकर समाज घातक कार्य में कार्यरत है।

समाज की सज्जन शक्ति का सम्पर्क कर उसे समाजहित में एकत्रित करने के आशय वनवासी कल्याण आश्रम सकारात्मकता के साथ जो जो व्यक्ति, संस्थाएँ, संगठन कार्यरत है उनके सम्पर्क करता है। चर्चासत्रों का आयोजन करता है। इसके कारण विचारों का आदान-प्रदान होता है। अच्छे कार्यो के लिये अनुकूल वातावरण निर्माण होता है, जिसके कारण वनवासी बन्धुओं को लाभ हेाता है। इसमें कुछ संगठन ऐसे है नगरवासी चला रहे है तो कुछ ऐसे है जो स्वयं वनवासी व्यक्ति चला रहे है। उन सभी का विश्वास बढ़ता है।

सम्पर्क आयाम के आयाम द्वारा –
चर्चासत्र, परिसंवाद, सम्मेलनों का आयोजन होता है।
संस्थाओं के बीच सम्पर्क बढ़ता है।
चर्चा के माध्यम से विचारों का आदान प्रदान होता है।
संस्थाएँ एक-दूसरे के प्रकल्पों को देखने जाते है।
कार्य के सन्दर्भ में परस्पर सहयोग का वातावरण बढ़ता है।
सम्पर्क आयाम का सूत्र है – हमारा गोत्र जनजाति, मंत्र समन्वय और उद्देश्य द्रुतगति से जनजाति समाज का सर्वांगीण विकास।

 

वार्ता

प्रधानमंत्री के निर्णय का अभिनंदन

प्रधानमंत्री के निर्णय का अभिनंदन वनवासी कल्याण आश्रम व्दारा विशाखापत्तनम में आयोजित अखिल भारतीय बैठक में 15-नवम्बर के दिन जनजाति गौरव दिवस को राष्ट्रीय स्तर पर मनाने के संदर्भ में...
Read More

Health service activities in the remote hills and forest regions in 2nd wave of Pendamic

Health service activities in the remote hills and forest regions in 2nd wave of Pendamic Service Project at a Glance (All India) Donate Now Akhil Bharateeya Vanvasi Kalyan Ashram has...
Read More

कोरोना के दूसरे लहर के दौरान स्वास्थ्य सेवा कार्य 

कोरोना के दूसरे लहर के दौरान स्वास्थ्य सेवा कार्य Service Project at a Glance (All India) Donate Now More News कोरोना के दूसरे लहर के दौरान देश के वनांचल एवं...
Read More

कोरोना राहत कार्य 2020

कोरोना राहत कार्य 2020 राशन वितरण कुल जिले 208 प्रखण्ड 448 ग्राम 3670 परिवार 77614 लाभान्वित जनजाति 170 अति पिछडी जनजाति 23 मास्क सिलाई केंद्र 428 मास्क वितरण 63000 शहरों...
Read More

दिवंगत कार्यकर्ताओं का कार्य आगे बढाने का निश्चय करें – रामचंद्र खराडी

दिवंगत कार्यकर्ताओं का कार्य आगे बढाने का निश्चय करें - रामचंद्र खराडी 16-17-18 दिसंबर 2020 बंगलुरू में वनवासी कल्याण आश्रम की अखिल भारतीय बैठक सम्पन्न हुई । इस प्रकार की...
Read More
1 2 3 4