Health service activities in the remote hills and forest regions in 2nd wave of Pendamic

So far, we have covered 1681 villages of 148 blocks in 84 districts. During this venture, we have screened 42124 people and we have provided medicine packets to 19066 patients.

Covid Relief In Inaccessible Tribal Areas

We started working towards this 3 weeks ago in Jashpur, Chhattisgarh. The results have been satisfactory. Till date we covered 35 villages and screened 2500 patients

कलेक्टर ने जिले में कोविड-19 के नियंत्रण के लिए वनवासी कल्याण आश्रम जशपुर की सहायता लेने के सम्बंध में ली बैठक

कलेक्टर ने जिले में कोविड-19 के नियंत्रण के लिए वनवासी कल्याण आश्रम जशपुर की सहायता लेने के सम्बंध में ली बैठक                  जशपुरनगर:- कलेक्टर श्री महादेव कावरे ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिले में कोविड के नियंत्रण के लिए वनवासी कल्याण आश्रम जशपुर की सहायता लेने के सम्बंध…

कोरोना राहत कार्य 2020

कोरोना राहत कार्य 2020 राशन वितरण कुल जिले 208 प्रखण्ड 448 ग्राम 3670 परिवार 77614 लाभान्वित जनजाति 170 अति पिछडी जनजाति 23 मास्क सिलाई केंद्र 428 मास्क वितरण 63000 शहरों में राहत 28 लाभान्वित 23360 प्रवासी मजदूर लाभान्वित 44000 ऑनलाइन कोचिंग झारखण्ड मध्यभारत महाकोशल प्रांतों में आयोजित किया गया। झारखण्ड में 8 हजार छात्र लाभान्वित…

दिवंगत कार्यकर्ताओं का कार्य आगे बढाने का निश्चय करें – रामचंद्र खराडी

दिवंगत कार्यकर्ताओं का कार्य आगे बढाने का निश्चय करें – रामचंद्र खराडी 16-17-18 दिसंबर 2020 बंगलुरू में वनवासी कल्याण आश्रम की अखिल भारतीय बैठक सम्पन्न हुई । इस प्रकार की बैठक प्रति तीन मास में होती है परन्तु कोरोना के चलते पिछली बैठक सीमित संख्या में हुई थी। ऐसे में हुए कार्यक्रमों की जानकारी देने…

अब, जम्मू-कश्मीर में भी कल्याण आश्रम का प्रवेश

अब, जम्मू-कश्मीर में भी कल्याण आश्रम का प्रवेश हम सभी के लिए यह एक अत्यंत आनंद के समाचार है कि वर्तमान में जन्मू-कश्मीर के कठूआ जिले में अपने कार्य का शुभारम्भ हुआ है। क्षेत्र संगठन मंत्री स्थानीय कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर इस हेतु पिछले कई समय से प्रयत्नशील थे। कठुआ जिले में गद्दी जनजाति निवासी…

वनवासी कल्याण आश्रम ब्रु जनजाति के साथ हुई समझौते का स्वागत करता है।

वनवासी कल्याण आश्रम ब्रु जनजाति के साथ हुई समझौते का स्वागत करता है। नागपुर से प्राप्त समाचार अनुसार ज्ञात हुआ कि जातिगत संघर्ष के कारण ब्रु जनजाति के लगभग 34000 लोगों को 1997 में मिजोराम से पलायन कर त्रिपुरा में शरण लेना पड़ा था। अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम केन्द्र सरकार व्‍दारा बु्र (रियांग) जनजाति…

संताली भाषा – संताल परगणा के जनजातियों की अपनी भाषा

संताली भाषा – संताल परगणा के जनजातियों की अपनी भाषा संताली भाषा भारत की पुरातन भाषाओं में से एक और संताल परगणा में बोली जानेवाली जनजाति भाषा है। वैसे ये झारखण्ड के साथ-साथ आसपास के राज्य जैसे की बिहार, उडिसा, बंगाल, असम, मेघालय, मिजोरम एवं त्रिपुरा के कुछ क्षेत्र में भी बोली जाति है और…

जनजाति धर्म-संस्कृति-परंपरा के साथ हो रही छेडछाड़ बंद हो

जनजाति धर्म-संस्कृति-परंपरा के साथ हो रही छेडछाड़ बंद हो रमेश बाबू जनजति समाज के परंपरागत धर्म संस्कृति, भारत की सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। वेदों में वर्णित इस जीवन पद्धति के आधार पर अनादि काल से जीवन जी रहे अपने जनजाति बन्धु भारत के सनातन समाज की रीड है। भारतीय संस्कृति का आविर्भाव गिरिकन्दरों…

राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.रामचंद्र जी खराड़ी का विशेष संदेश
कोरोना के दूसरे लहर के दौरान स्वास्थ्य सेवा कार्य 

कोरोना के दूसरे लहर के दौरान देश के वनांचल एवं पर्वत प्रदेशों में रहने वाले अपने बान्धवों के बीच अ.भा.वनवासी कल्याण आश्रम ने व्यापक तौर पर स्वास्थ्य सेवा कार्य प्रारंभ किया है।

previous arrow
next arrow
Slider
previous arrow
next arrow
previous arrownext arrow
Slider

News & Press Releases

Where we work

Video Gallery

Photo Gallery

VILLAGE DEVELOPMENT

VILLAGE DEVELOPMENT (ग्राम विकास) भारत गाँव में बसता है। गाँव का विकास ही सही में भारत का विकास है। जनजाति समाज भी अधिकतम छोटे-छोटे गावों में, पाडों में, टोले में बसता है। सुदूर वन पर्वतों में बसता है। इस जनजाति समाज का विकास करना ही हम सभी का लक्ष्य है। इस हेतु ग्राम विकास यह…

Health Care स्वास्थ्य

किसी भी संवेदनशील व्यक्ति को अत्यंतीक पीड़ा देनेवाली बात यह है की वन पर्वतों में बसे गाँवों में यदि किसी बिमार व्यक्ति को दवाई अथवा उपचार की आवश्यकता है और वह उसके गाँव में यदि उपलब्ध नहीं है तो उसकी क्या स्थिति होगी ? तब उसे कई किलो मीटर…

Education शिक्षा

शिक्षा सभी बालकों का अधिकार है और सुदूरवर्ती जनजाति क्षेत्रों में तो शिक्षा की सविशेष आवश्यकता है। आज भी विद्यालयों की संख्या कम होने के कारण वनवासी बालकों को दूर दूर तक जाना पडता है। जहाँ विद्यालय है वहाँ उसके गुणवत्ता पर भी प्रश्न चिन्ह है। सरकार के साथ कई सामाजिक संगठन भी वनवासी…

URBAN ACTIVITIES

URBAN ACTIVITIES (नगरीय कार्य) वनक्षेत्र में आज शिक्षा, चिकित्सा सुविधा, आर्थिक विकास की दिशा में हमें कमियाँ दिखाई पड़ रही है। अगर नगरों में रहनेवाला समाज 100 वर्ष पूर्व ही जागृत एवं सचेत होकर अपने वनवासी बन्धुओं के बारे में सक्रीय हुआ होता तो आज चित्र कुछ और होता। नगरीय समाज की उदासीनता, उपेक्षा एवं…

Sports खेलकूद

Sports खेलकूद अपने वनवासी बन्धुओं में शारीरिक क्षमता एवं कौशल विपूल मात्रा में है। सुदूर गाँवों में जाना खेल प्रतिभाओं की शोध कर उन्हें प्रशिक्षण देकर अवसर प्रदान करना यह खेलकूद आयाम का महत्वपूर्ण कार्य है। आज कई वर्षों से इस खेलकूद के क्षेत्र में कार्यरत वनवासी कल्याण आश्रम ने अनेक उपलब्धियाँ पाई। खेल जगत…

प्रचार- प्रसार, प्रकाशन

विचारों का प्रचार, कार्य का प्रचार जानकारियों का संकलन कर सम्बन्धित क्षेत्रों में संप्रेषण को प्रचार-प्रसार कहते है। भारत की यह प्राचीन परम्परा है। नारद मुनि इसके आदर्श है। वर्तमान युग के अनुरूप अद्यतन सभी व्यवस्थाओं का उपयोग कर जनजाति जगत से जुड़ी जानकारियों के प्रचार हेतु वनवासी कल्याण…

छात्रावास

यह भी शिक्षा क्षेत्र से ही जुड़ा प्रकल्प है। वैसे कल्याण आश्रम की स्थापना ही एक छात्रावास के द्वारा हुई थी और किसी भी व्यक्ति हम उसी के माध्यम से कल्याण आश्रम का काम दिखा सकते है। आज हम देश में 219 छात्रावासों का संचालन कर रहे है। इसमें 43 छात्रावास बालिका छात्रावास है।…

previous arrow
next arrow
Slider

We Are Social